विश्व के 10 सर्वोच्च पर्वत शिखर

विश्व के 10 सर्वोच्च पर्वत शिखर

(World’s Highest Mountain Peak)

माउंट एवरेस्ट

  • माउंट एवरेस्ट की ऊँचाई 29,002 फीट या 8,848 मीटर मापी गई।
  • नेपाली : सागरमाथा, संस्कृत : देवगिरि
  • यह दुनिया का सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है।
  • यह महालंगूर हिमालय श्रृंखला (नेपाल) में स्थित है।
  • प्रथम चढ़ाई → न्यूजीलैंड एडमंड हिलेरी व तेन्जिंग नॉरगे।
  • वैज्ञानिक सर्वेक्षणों में कहा जाता है कि इसकी ऊंचाई प्रतिवर्ष 2 से॰मी॰ के हिसाब से बढ़ रही है। नेपाल में इसे स्थानीय लोग सागरमाथा (अर्थात स्वर्ग का शीर्ष) नाम से जानते हैं, जो नाम नेपाल के इतिहासविद बाबुराम आचार्य ने सन् 1930 के दशक में रखा था (आकाश का भाल भी कहते है।)। तिब्बत में इसे सदियों से चोमोलंगमा अर्थात पर्वतों की रानी के नाम से जाना जाता है।

 

के-2 (गोडविन आउस्टेन)

  • ऊँचाई → 8,611 मीटर (28,251 फ़ुट)
  • इसे गोडविन आउस्टेन तथा चोगिर भी कहते है।
  • विश्व का दूसरा सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है।
  • के-2 भारतीय सीमा क्षेत्र में स्थित है, जो पाकिस्तान अधिकृत क्षेत्र है।
  • के-2 पर्वत शिखर पाक-अधिकृत कश्मीर के गिलगित-बल्तिस्तान क्षेत्र में है।
  • पाकिस्तान ने इस क्षेत्र को चीन को सौंप रखा है। (शिनजिआंग प्रदेश की सीमा पर)
  • यह पर्वत शिखर काराकोरम पर्वतमाला की बाल्तोरो मुज़ताग़ उपश्रृंखला में स्थित है।
  • के टू को माउंट एवरेस्ट की तुलना में अधिक कठिन और खतरनाक माना जाता है। के टू पर लगभग 250 लोग चढ़ चुके हैं जबकि माउंट एवरेस्ट पर लगभग 2200 लोग।

 

कंचनजंघा

  • इसकी ऊंचाई 8,586 मीटर (28,169 फीट) है।
  • कंचनजंघा विश्व की तीसरी सबसे ऊँची पर्वत चोटी है।
  • यह भारतीय राज्य सिक्किम के उत्तर पश्चिम भाग में नेपाल की सीमा पर स्थित है। इसकी स्थिति नेपाल व भारत की सीमा है।
  • कंचनजंघा नाम की उत्पत्ति तिब्बती मूल के चार शब्दों यांग-छेन-दजो-ङ्गा से हुई है। सिक्किम में इसका अर्थ विशाल हिम की पाँच निधियाँ लगाया जाता है।
  • नेपाल में यह कुंभकरन लंगूर कहलाता है।
  • प्रथम आरोहण 25 मई 1955 → यूनाइटेड किंगडम के जो ब्राउन तथा जॉर्ज बैण्ड ने किया।

 

ल्होत्से

  • ल्होत्से शिखर – एवरेस्ट, के2 और कंचनजंगा के बाद विश्व का चौथा सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है। जो महालंगूर हिमालय का हिस्साश है।
  • इसकी ऊँचाई 8516 मीटर (27,940 फीट) है।
  • यह शिखर एवरेस्ट की दक्षिणी घाटी से जुड़ा है। इस शिखर के अगल-बगल दो और शिखर हैं। मध्य या पूर्वी ल्होत्से (8414 मीटर, 27,605 फीट) तथा ल्होत्से शार (8383 मीटर; 27,503 फुट)।

 

मकालू

  • मकालू विश्व का पाँचवा सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है।
  • इसकी ऊँचाई 8481 मीटर; 27825 फीट है।
  • यह एवरेस्ट से 19 कि॰मी॰ दक्षिण-पूर्व में स्थित है।
  • यह एक अलग-थलग शिखर है जो एक चार मुखी पिरामिड के समान है।
  • यह शिखर भी महालंगूर हिमालय का ही हिस्साु तथा नेपाल व चीन (खुम्बु, तिब्बत) की सीमा पर स्थित है।

 

चोयु या चो ओयु

  • यह पर्वत शिखर विश्व का छठा सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है।
  • इसकी ऊँचाई 8188 मीटर (26,864 फीट)
  • पर्वत हिमालय की महालंगूर हिमालय के खुम्बु उपभाग का पश्चिमतम पर्वत है।
  • चोयु पर्वत, माउंट एवरेस्ट पर्वत से 20 किमी पश्चिम में स्थित है।
  • यह नेपाल और तिब्बत की सीमा पर स्थित है।
  • चोयु पर्वत से कुछ ही किलोमीटर पश्चिम में 5,716 मीटर (18,753 फीट) की ऊँचाई पर नांगपा ला नामक दर्रा है जो हिमालय के खुम्बु और रोलवालिंग भागों को अलग करता है और तिब्बती लोगों और खुम्बु क्षेत्र के शेरपाओं (स्थानीय निवासी) के बीच का मुख्य व्यापारी मार्ग है।

 

धौलागिरी

  • धौलागिरी हिमालय का एकपर्वतीय पुंजक (अनेक पर्वत शिखर) है।
  • यह इस पुंजक का सर्वोच्च पर्वत 8,167 मीटर (26,795 फीट) ऊँचा धौलागिरी 1 है।
  • यह पर्वत शिखर विश्व का 7वाँ सर्वोच्च पर्वत शिखर है।
  • यह पर्वत नेपाल में कालीगण्डकी नदी से आरम्भ होकर 120 किमी दूर स्थित भेरी नदी तक विस्तृत है।
  • इसी श्रृंखला के अन्य पर्वत शिखर है→
  1. धौलागिरी 2 7,751 मी. (25,430 फीट)
  2. धौलागिरी 3 7,715 मी. (25,311 फीट)
  3. धौलागिरी 4 7,661 मी. (25,135 फीट)
  4. धौलागिरी 5 7,618 मी. (24,992 फीट)
  • इन पर्वत शिखरों के अलावा भी अनेक पर्वत शिखर है, जो ऊँचाई में अपना महत्त्वपूर्ण स्थान रखने है, जैसे चुरेन हिमाल 7,385 मी. इसकी तीन चोटियां है, पुथा हिउँचुली 7,246 मी., गुर्जा हिमाल आदि।

 

मनास्लु

  • यह पर्वत शिखर विश्व का आठवाँ सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है।
  • इसकी ऊँचाई 8,163 मीटर (26,781 फीट) है।
  • यह पर्वत मध्योत्तर नेपाल के गोरखा ज़िले में स्थित है।
  • यह हिमालय के मनसिरी हिमाल नामक भाग का सदस्य है।

 

नंगा पर्वत

  • नंगा पर्वत विश्व का नौवा सर्वोच्च पर्वत शिखर है।
  • इसकी ऊँचाई 8,125 मीटर (26,658 फीट) है।
  • इसे दुनिया का “क़ातिल पहाड़” या ”खूनी पहाड़” भी कहा जाते है क्योंकि इस पर चढ़ने वाले बहुत से लोगों की जाने जा चुकी हैं।
  • बीसवीं सदी के पहले हिस्से में आठ हज़ार मीटर से ऊंचे पहाड़ों में इस नंगा पहाड़ पर सब से ज्यादा मौतें हुई हैं।
  • नंगा पर्वत, हिमालय पर्वत शृंखला के सुदूर पश्चिमी भाग में स्थित है और आठ हज़ार मीटर से ऊंचे पहाड़ों में से सब से पश्चिमी है। यह सिन्धु नदी से ज़रा दक्षिण में और अस्तोर घाटी की पश्चिमी सीमा पर स्थिं‍त है।

 

अन्नपूर्णा

  • अन्नपूर्णा, हिमालय का एक पर्वतीय पुंजक है।
  • इसका सर्वोच्च पर्वत अन्नपूर्णा 1 मुख्य है जो समुद्रतल से 8,091 मीटर (26,545 फ़ुट) ऊँचा है।
  • यह विश्व का 10वाँ सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है।
  • यह पुंजक 55 किमी लम्बा है और उत्तर-मध्य नेपाल में स्थित है। इसके अन्यम सर्वोच्च शिखर है →

                  पर्वत                   मीटर         फीट

              अन्नपूर्णा              2 7937 मी (26,040 फीट)

              अन्नपूर्णा              3 7,555 मी (24,786 फीट)

              अन्नपूर्णा              4 7,525 मी (24,688 फीट)

              गंगापूर्णा              7,455 मी (24,457 फीट)

              अन्नपूर्णा दक्षिण    7,219 मी (23,684 फीट)

 

  • ऐतिहासिक रूप से अन्नपूर्णा पुंजक की चोटियाँ पर्वतारोहियों के लिए विश्व के सबसे ख़तरनाक शिखरों में आती हैं, हालांकि 1990 के बाद कंचनजंघा व नंगा पर्वत पर अधिक मृत्यु दर रहा। मार्च 2012 तक अन्नपूर्णा 1 मुख्य को 191 बार चढ़ा जा चुका था और पर्वत पर 61 लोग मारे जा चुके थे।
Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *