Daily Current Affairs 3 May, 2019 in Hindi

Daily Current Affairs 3 May, 2019 in Hindi

डेली करेंट अफेयर्स 3 मई, 2019

1. जयपुर किया जायेगा 8वीं एशियन यूथ वीमेन हैंडबॉल चैंपियनशिप का आयोजन

राजस्थान के जयपुर में 8वीं एशियन यूथ वीमेन हैंडबॉल चैंपियनशिप का आयोजन किया जाएगा। इस प्रतियोगिता में 10 टीमें हिस्सा लेंगी। इसमें पिछले वर्ष की डीफेन्डिंग चैंपियन दक्षिण कोरिया भी शामिल है।

एशियन यूथ वीमेन हैंडबॉल चैंपियनशिप

  • इस प्रतियोगिता आयोजन पहली बार जयपुर में 21 से 30 अगस्त के बीच किया। इससे पहले 2015 में इस प्रतियोगिता का आयोजन दिल्ली में किया गया था, उस संस्करण में भारत सातवें स्थान पर रहा था।
  • इस प्रतियोगिता में दक्षिण कोरिया का दबदबा रहा है। गौरतलब है कि दक्षिण कोरिया ने इस प्रतियोगिता के पिछले सातों संस्करणों को जीता है। 2017 में इस प्रतियोगिता के सातवें संस्करण का आयोजन इंडोनेशिया के जकार्ता में किया गया था।
  • पिछले संस्करण में दक्षिण कोरिया ही विजेता रहा था जबकि जापान और चीन क्रमश दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे थे।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – 8वीं एशियन यूथ वीमेन हैंडबॉल चैंपियनशिप का आयोजन राजस्थान के किस जिले में किया जाएगा?

उत्तर —जयपुर में

2. ड्रेजिंग कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड ने WAPCOS के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये

  • ड्रेजिंग कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड (DCIL) ने हाल ही में वाटर एंड वाटर पॉवर कंसल्टेंसी सर्विसेज (इंडिया) लिमिटेड (WAPCOS) के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं।
  • इस समझौते के तहत संयुक्त रूप से भू-तकनीकी अन्वेषण तथा इंजीनियरिंग कंसल्टेंसी इत्यादि कार्य किये जायेंगे।
  • यह दोनों फर्म जल संसाधन, उर्जा तथा संसाधन, बंदरगाह, झील पुनर्वास, बाढ़ प्रबंधन, अपरदन नियंत्रण इत्यादि क्षेत्रों में संयुक्त रूप से कार्य करेंगी।

स्म्णीय तथ्य :-

— वाटर एंड वाटर पॉवर कंसल्टेंसी सर्विसेज WAPCOS : केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय के अधीन एक मिनी रत्न कंपनी है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसकी स्थापना 26 जून, 1969 को की गयी थी। इसकी स्थापना कंपनी अधिनियम, 1956 के तहत की गयी थी। अब तक यह कंपनी विश्व भर में 50 से अधिक असाइनमेंट पर कार्य कर चुकी है।

3. विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस : 3 मई

  • 3 मई को प्रेस स्वतंत्रता के मौलिक सिद्धांतों का जश्न मनाने के साथ-साथ दुनिया भर में प्रेस की आजादी का मूल्यांकन करने हेतु हर साल विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है।
  • यह दिवस मीडिया की आजादी पर हमलों से मीडिया की रक्षा करने तथा मरने वाले पत्रकारों को श्रद्धांजलि अर्पित करने का कार्य करता है।
  • वर्ष 2019 के लिए विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस का विषय ‘Media for Democracy’ रखा गया है।

मुख्य तथ्य

  • 1991 में यूनेस्को की जनरल असेंबली के 26 वें सत्र में अपनाई गई सिफारिश के बाद, संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) ने दिसंबर 1993 में विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस की घोषणा की थी।
  • यह विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस पुरस्कार का 21वां वर्ष रहा है। इसका आरंभ वर्ष 1997 में हुआ था। कोलंबियन पत्रकार गिलेरमो कानो इसाज़ा के नाम पर इस पुरस्कार नाम रखा गया।
  • गिलेरमो को उनके समाचार पत्र के दफ्तर के बाहर 17 दिसंबर 1986 को मार दिया गया था। संयुक्त रूप से इसका आयोजन फ्रांस, ग्रीस और लिथुआनिया के स्थायी मिशन द्वारा किया जाता है।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस कब मनाया जाता है?

उत्तर — 3 मई को

4. SIPRI ने जारी की विश्व में सर्वाधिक सैन्य व्यय वाले देशों की सूची

  • वैश्विक थिंक टैंक स्टॉकहोल्म इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टिट्यूट (SIPRI) ने हाल ही में नया डाटा जारी किया है, इसके अनुसार 2018 में वैश्विक सैन्य व्यय में 2.6% की वृद्धि हुई है, कुल वैश्विक सैन्य व्यय अब 1,822 अरब डॉलर पर पहुँच गया है।
  • नए डाटा के अनुसार 2018 में अमेरिका का सैन्य व्यय सर्वाधिक था। अमेरिका का सैन्य व्यय 649 अरब डॉलर था। इस सूची में चीन दूसरे स्थान पर है, चीन का सैन्य व्यय 250 अरब डॉलर था।
  • इस सूची में शामिल अन्य देश हैं : सऊदी अरब (67.6 अरब डॉलर), भारत (66.5 अरब डॉलर) तथा फ्रांस (63.8 अरब डॉलर) इस अध्ययन के अनुसार अमेरिका ने 2010 के बाद पहली बार सैन्य व्यय में वृद्धि की है। गौरतलब है कि चीन पिछले 24 वर्षों से लगातार अपने सैन्य व्यय में वृद्धि कर रहा है।
  • गौरतलब है कि 2018 में भारत ने अपने सैन्य व्यय में 3.1% की वृद्धि की, जबकि पाकिस्तान ने अपने सैन्य व्यय में 11% की वृद्धि की। 2018 में पाकिस्तान का कुल सैन्य व्यय 11.4 अरब डॉलर था

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – SIPRI ने जारी की विश्व में सर्वाधिक सैन्य व्यय वाले देशों की सूची के अनुसार 2018 में वैश्विक सैन्य व्यय में कितने प्रतिशत की वृद्धि हुई है?

उत्तर —2.6%

— स्टॉकहोल्म अंतर्राष्ट्रीय शांति अनुसन्धान संस्थान (SIPRI) की स्थापना 1966 में की गयी थी, यह एक स्वीडिश थिंक टैंक है। यह संघर्ष, शस्त्र शस्त्र नियंत्रण तथा निशस्त्रीकरण इत्यादि विषयों में शोध के लिए समर्पित है। SIPRI नीति निर्माताओं, शोधकर्ताओं, मीडिया तथा जन-सामान्य को डाटा, विश्लेषण तथा अनुशंसाएं उपलब्ध करवाता है।

5. कुमार संगकारा बनेंगे एमसीसी के पहले गैर-ब्रिटिश अध्यक्ष

श्रीलंका के महान बल्लेबाज़ कुमार संगाकारा एमसीसी (मेरिलिबोन क्रिकेट क्लब) के पहले गैर-ब्रिटिश अध्यक्ष बनेंगे। वे 1 अक्टूबर, 2019 को कार्यभार संभालेंगे। उनके नाम की घोषणा एमसीसी के मौजूदा अध्यक्ष अंथोनी रेफोर्ड ने की।

मेरिलिबोन क्रिकेट क्लब

  • मेरिलिबोन क्रिकेट क्लब की स्थापना 1787 में की गयी थी, 1814 के बाद से यह लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड में स्थित है।
  • यह क्लब इंग्लैंड और वेल्स के लिए क्रिकेट की गवर्निंग बॉडी हुआ करती थी। 1788 में एमसीसी ने क्रिकेट के नियमों की ज़िम्मेदारी ली और नियमों का संशोधित स्वरुप प्रस्तुत किया गया है।
  • हालांकि अब क्रिकेट के नियमों में परिवर्तन अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद् द्वारा निश्चित किये जाते हैं, परन्तु अभी भी कॉपीराइट एमसीसी के पास है।

कुमार संगकारा

  • कुमार संगकारा श्रीलंका के महानतम क्रिकेटरों में से एक हैं। कुमार संगकारा ने श्रीलंका के लिए 20 जुलाई, 2000 को टेस्ट क्रिकेट में पर्दार्पण किया था, उन्होंने अपने करियर में 134 टेस्ट मैचों में 12,400 रन बनाये।
  • अपने एक दिवसीय करियर की शुरुआत उन्होंने 5 जुलाई, 2000 को पाकिस्तान के विरुद्ध की थी। अपने एक दिवसीय करियर में उन्होंने 404 मैच खेले और 14,234 रन बनाये।
  • कुमार संगकारा ने अपने करियर में 56 अंतर्राष्ट्रीय टी-20 मैच खेले, इनमेउन्होंने 1,382 रन बनाये।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – हाल ही में श्रीलंका के कौनसे महान बल्लेबाज़ को एमसीसी (मेरिलिबोन क्रिकेट क्लब) के पहले गैर-ब्रिटिश अध्यक्ष बनाने की घोषणा की है?

उत्तर — कुमार संगकारा

— मेरीलेबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) लन्दन में एक क्रिकेट क्लब है जिसकी स्थापना 1787 में की गयी थी।

6. नाथू-ला में भारत-चीन सीमा व्यापार का 14वां संस्करण शुरू हुआ

सिक्किम में भारत-चीन सीमा पर नाथू-ला में भारत-चीन सीमा व्यापार का 14वां संस्करण शुरू हुआ। इस अवसर पर दोनों देशों के अधिकारी व व्यापारी शामिल हुए।

मुख्य बिंदु

  • प्रतिवर्ष दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार होता है, इसका आयोजन 6 महीने तक (1 मई से 30 नवम्बर तक) सप्ताह में चार दिन तक किया जाता है।
  • 44 वर्षों के अन्तराल के बाद इस सीमा व्यापार को 6 जुलाई, 2006 को पुनः शुरू किया गया था। इससे न केवल व्यापार को बढ़ावा मिला है, बल्कि इससे पर्यटन में भी वृद्धि हुई है, जिससे स्थानीय लोगों को आजीविका कमाने के लिए अन्य स्त्रोतों की प्राप्ति हुई है।
  • भारत के व्यापार सूची में दो अनुभाग हैं। निर्यात सूची में 36 वस्तुएं हैं, इसमें दुग्ध उत्पाद से लेकर बर्तन तक शामिल हैं। भारत की आयात सूची में 20 वस्तुएं शामिल हैं, इनमे कालीन, रजाईयां तथा जैकेट इत्यादि शामिल हैं।
  • इस मेले में 2018 में भारत ने 45.03 करोड़ रुपये की वस्तुओं का निर्यात किया, जबकि 3.23 करोड़ रुपये की वस्तुओं का आयात किया।

नोट : भारत और चीन के बीच तीन मुक्त सीमान्त व्यापार पोस्ट हैं :

  • सिक्किम में नाथू ला
  • हिमाचल प्रदेश में शिपकी ला
  • उत्तराखंड में लिपुलेख

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – हाल ही में भारत-चीन सीमा पर नाथू-ला में भारत-चीन सीमा व्यापार का 14वां संस्करण कहां पर शुरू हुआ है?

उत्तर — सिक्किम में

7. हॉकी इंडिया ने राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए पी.आर. श्रीजेश का नाम प्रस्तावित किया

  • हॉकी इंडिया ने गोलकीपर पी.आर. श्रीजेश का नाम राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए प्रस्तावित किया है।
  • उनके अतिरिक्त चिंग्लेसना सिंह कंगुजम, अक्षदीप सिंह तथा महिला खिलाड़ी दीपिका का नाम अर्जुन अवार्ड के लिए प्रस्तावित किया गया है।

पी.आर.श्रीजेश

  • पी.आर.श्रीजेश भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर हैं। उनका जन्म 8 मई, 1988 को केरल के एर्नाकुलम जिले में हुआ था।
  • श्रीजेश ने जूनियर राष्ट्रीय टीम में 2004 में प्रवेश किया था। सीनियर राष्ट्रीय टीम ने उन्होंने 2006 में प्रवेश किया। हॉकी इंडिया लीग में वे उत्तर प्रदेश विज़ार्ड्स के लिए खेलते हैं।

स्मरणीय तथ्य :-

— राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार खेल के क्षेत्र में दिया जाने वाला देश का सर्वोच्च सम्मान है। इस पुरस्कार का नाम भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी के नाम पर रखा गया है। यह पुरस्कार प्रतिवर्ष केन्द्रीय युवा व खेल मामले मंत्रालय द्वारा प्रदान किया जाता है। इस पुरस्कार के विजेता को 7.5 लाख रुपये इनामस्वरुप प्रदान किये जाते हैं। इस पुरस्कार के विजेताओं का चयन मंत्रालय द्वारा चुनी गयी समिति द्वारा किया जाता है।

8. विद्युत् वाहनों के लिए अनिवार्य होगी 

  • केंद्र सरकार ने पहले देश में सभी विद्युत् वाहनों के लिए हरे रंग की नंबर प्लेट का प्रस्ताव रखा है। अब केंद्र सरकार ने इस प्रस्ताव पर अमल करते हुए राज्य परिवहन विभागों के सभी विद्युत् वाहनों के लिए हरी नंबर प्लेट अनिवार्य करने का निर्देश दिया है।
  • भले ही विद्युत् वाहन किसी भी वर्ष खरीदा गया है, उसमे हरी नंबर प्लेट का उपयोग करना अनिवार्य है। इस नंबर प्लेट की पृष्ठभूमि हरे रंग की होगी जबकि वाहन का नंबर सफ़ेद रंग में लिखा हुआ होगा।
  • इस तरह के वाहनों को पार्किंग, भीड़भाड़ वाले इलाकों में निशुल्क प्रवेश तथा हाईवे पर कम टोल इत्यादि का लाभ दिया जा सकता है। इसका उद्देश्य देश में विद्युत् वाहनों को बढ़ावा देना है।

FAME II

कैबिनेट मामलों की आर्थिक समिति ने FAME (Faster Adoption & Manufacturing of Electric (and hybrid) Vehicles) योजना के दूसरे संस्करण को मंज़ूरी दी है। इसके लिए 2022 तक के लिए 10,000 करोड़ रुपये मंज़ूर किये गये हैं।

मुख्य बिंदु

  • इसका उद्देश्य देश में विद्युत् तथा हाइब्रिड वाहनों के निर्माण व उपयोग को बढ़ावा देना है, इसके लिए देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशन स्थापित किये जायेंगे।
  • FAME II योजना के द्वारा सार्वजनिक परिवहन के विद्युतीकरण पर बल दिया जायेगा।
  • इस योजना के तहत बिजली से चलनी वाली बसों के चलन को बढ़ावा दिया जायेगा।
  • 3 व्हीलर तथा 4 व्हीलर सेगमेंट में सार्वजनिक परिवहन के लिए उपयोग तथा वाणिज्यिक उपयोग के लिए किये जाने वाले वाहनों को इंसेंटिव दिया जायेगा।
  • जबकि 2-व्हीलर सेगमेंट में निजी वाहनों पर फोकस किया जायेगा।
  • इस योजना के तहत 10 लाख इलेक्ट्रिक दुपहिया वाहन, 5 लाख तिपहिया वाहन, 5500 4 व्हीलर तथा 7000 बसों के लिए सहायता प्रदान की जायेगी।
  • इस योजना के लाभ केवल उन वाहनों को मिलेंगे जिनमे एडवांस्ड बट्टर जैसे लिथियम आयन बैटरी तथा अन्य नवीन तकनीक वाली बैटरी लगी होगी।
  • इस योजना के तहत देश में 2700 चार्जिंग स्टेशन की स्थापना की जायेगी। योजना के अनुसार प्रत्येक 3 किलोमीटर x 3 किलोमीटर के ग्रिड में कम से कम एक चार्जिंग स्टेशन होना चाहिए।
  • FAME II योजना FAME India I का विस्तृत स्वरुप है, इस योजना को पहली बार 1 अप्रैल, 2015 को लांच किया गया था।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – हाल ही में केन्द्र सरकार द्वारा राज्य परिवहन विभागों के विद्युत् वाहनों के लिए कौनसे रंग की नंबर प्लेट अनिवार्य होगी?

उत्तर — हरे रंग की

9. 9 जुलाई से 16 जुलाई के बीच लांच किया जाएगा मिशन चंद्रयान 2 : इसरो

  • इसरो ने हाल ही में वक्तव्य जारी करके कहा है कि मिशन चंद्रयान 2 को 9 से 16 जुलाई के बीच लांच किया जाएगा। और यह चन्द्रमा की सतह पर 6 सितम्बर को लैंड करेगा।
  • हाल ही में एक परीक्षण चन्द्रमा पर लैंड किये जाने वाले वाहन (लैंडर) “विक्रम” को हल्की सी क्षति पहुंची है। उसकी मरम्मत का कार्य जारी है।
  • हाल ही में इजराइल का स्पेसक्राफ्ट चन्द्रमा पर लैंड करने से पहले दुर्घटना का शिकार हुआ था और वह चन्द्रमा की सतह पर क्रेश होकर गिर गया था।
  • इसके बाद इसरो ने स्पष्ट कर दिया है कि वह किसी भी किस्म का जोखिम लेने के पक्ष में नहीं है।

मिशन चंद्रयान-2

  • चंद्रयान-2 भारत का चंद्रमा पर दूसरा मिशन है, यह भारत का अब तक का सबसे मुश्किल मिशन है। यह 2008 में लांच किये गए मिशन चंद्रयान का उन्नत संस्करण है।
  • चंद्रयान मिशन ने केवल चन्द्रमा की परिक्रमा की थी, परन्तु चंद्रयान-2 मिशन में चंद्रमा की सतह पर एक रोवर भी उतारा जायेगा।
  • इस मिशन के सभी हिस्से इसरो ने स्वदेश रूप से भारत में ही बनाये हैं, इसमें ऑर्बिटर, लैंडर व रोवर शामिल है।
  • इस मिशन में इसरो पहली बार चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड रोवर को उतारने की कोशिश करेगा। यह रोवर चंद्रमा की सतह पर भ्रमण करके चन्द्रमा की सतह के घटकों का विश्लेषण करेगा।
  • चंद्रयान-2 को GSLV Mk III से लांच किया जायेगा। यह इसरो का ऐसा पहला अंतर्ग्रहीय मिशन है, जिसमे इसरो किसी अन्य खगोलीय पिंड पर रोवर उतारेगा।
  • इसरो के स्पेसक्राफ्ट (ऑर्बिटर) का वज़न 3,290 किलोग्राम है, यह स्पेसक्राफ्ट चन्द्रमा की परिक्रमा करके डाटा एकत्रित करेगा, इसका उपयोग मुख्य रूप से रिमोट सेंसिंग के लिए किया जा रहा है।
  • 6 पहिये वाला रोवर चंद्रमा की सतह पर भ्रमण करके मिट्टी व चट्टान के नमूने इकठ्ठा करेगा, इससे चन्द्रमा की भू-पर्पटी, खनिज पदार्थ तथा हाइड्रॉक्सिल और जल-बर्फ के चिन्ह के बारे में जानकारी मिलने की सम्भावना है फिलहाल इजराइल भी दिसम्बर, 2018 में चन्द्रमा पर मिशन उतारने की तैयारी कर रहा है। यह डाटा पृथ्वी तक ऑर्बिटर के द्वारा भेजा जायेगा फिलहाल इजराइल भी दिसम्बर, 2018 में चन्द्रमा पर मिशन उतारने की तैयारी कर रहा है।
  • चन्द्रमा की सतह पर सॉफ्ट-लैंडिंग करना इस मिशन का सबसे कठिन हिस्सा होगा, अब तक केवल अमेरिका, रूस और चीन ही यह कारनामा कर पाए हैं।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – इसरो की स्थापना कब हुई थी ?

उत्तर — 15 अगस्त, 1969

— सन् 1962 में भारतीय राष्ट्रीeय अंतरिक्ष अनुसंधान समिति के गठन के साथ ही भारत में अंतरिक्ष क्रियाकलापों का श्रीगणेश हो गया था। उसी वर्ष तिरुवनंतपुरम के निकट थुम्बाध भूमध्यथरेखीय रॉकेट प्रक्षेपण स्टेोशन (टर्लस) की स्थागपना का काम भी प्रारंभ हो गया। अगस्त 1969 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन की स्थाशपना हुई। भारत सरकार द्वारा अंतरिक्ष आयोग का गठन कर जून 1972 में अंतरिक्ष विभाग की स्थारपना की गई तथा सितंबर 1972 में इसरो को अंतरिक्ष विभाग के अंतर्गत लाया गया।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *