Daily Current Affairs 7 May, 2019 in Hindi

Daily Current Affairs 7 May, 2019 in Hindi

डेली करेंट अफेयर्स 7 मई, 2019

1. विश्व अस्थमा दिवस

विश्व अस्थमा दिवस प्रतिवर्ष मई महीने के प्रथम मंगलवार को मनाया जाता है, इसका आयोजन ग्लोबल इनिशिएटिव फॉर अस्थमा द्वारा किया जाता है। सर्वप्रथम विश्व अस्थमा दिवस का आयोजन 1998 में किया गया था।

मुख्य बिंदु

  • अस्थमा (दमा) श्वसन सम्बन्धी रोग है, यह सभी आयुवर्ग के लोगों को प्रभावित कर सकता है। इस रोग में पीड़ित को सांस लेने में तकलीफ, खांसी तथा छाती में दबाव इत्यादि हो सकता है।
  • यह श्वसन मार्ग में सूजन के कारण होता है। अस्थमा अनुवांशिक भी हो सकता है और पर्यावरण के कारण भी। पर्यावरण में प्रदूषण तथा एलर्जेटिक कणों के कारण भी यह हो सकता है।
  • हालाँकि अस्थमा का कोई स्थायी इलाज नहीं है, परन्तु इसके विभिन्न तरीकों से नियंत्रित किया जा सकता है। अस्थमा ट्रिगर करने वाले कारकों (प्रदूषण कण इत्याद) से दूर रहने के कारण इससे बचा जा सकता है।
  • लांसेट द्वारा किये गये अध्ययन के अनुसार 2015 में ट्रैफिक से सम्बंधित प्रदूषण के कारण भारत में 3,50,000 बच्चे अस्थमा से पीड़ित थे, इस मामले में भारत चीन के बाद दूसरे स्थान पर था।
  • 2015 में विश्व भर में अस्थमा के कारण 3,97,100 लोगों की मृत्यु हुई थी। 2015 के डाटा के अनुसार विश्व भर में 358 मिलियन लोग अस्थमा से पीड़ित हैं।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – विश्व अस्थमा दिवस कब मनाया जाता है?

उत्तर — मई महीने के प्रथम मंगलवार को

प्रश्न – सर्वप्रथम विश्व अस्थमा दिवस का आयोजन कब किया गया था?

उत्तर —1998 में

2. लॉरेंतिनो कोर्तिजो को पनामा का नया राष्ट्रपति नियुक्त किया गया

  • पनामा के निर्वाचन न्यायालय ने लॉरेंतिनो कोर्तिजो को पनामा के राष्ट्रपति चुनावों में विजयी घोषित किया है।
  • कोर्तिजो पनामा की डेमोक्रेटिक रेवोलुशनरी पार्टी के उम्मीदवार हैं, उन्हें कुल 95% में से 33% मत प्राप्त हुए हैं। डेमोक्रेटिक रेवोलुशनरी पार्टी की स्थापना 1979 में सैन्य शासक ओमर तोरिजोस द्वारा की गयी थी।

लॉरेंतिनो कोर्तिजो

  • लॉरेंतिनो कोर्तिजो का जन्म 30 जनवरी, 1953 को पनामा सिटी में हुआ था। कोर्तिजो नेशनल असेंबली के पूर्व अध्यक्ष हैं। वे 1994 से 2004 के बीच नेशनल असेंबली के सदस्य भी रहे।
  • उन्होंने 2019 के राष्ट्रपति चुनावों में 33.27% मत प्राप्त हुए हैं। वे 1 जुलाई, 2019 को कार्यभार संभालेंगे। वे जुआन कार्लोस वारेला की जगह लेंगे।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – हाल ही में पनामा के निर्वाचन न्यायालय ने किसे पनामा के राष्ट्रपति चुनावों में विजयी घोषित किया है?

उत्तर — लॉरेंतिनो कोर्तिजो को

—पनामा एक मध्य अमेरिकी देश है। पनामा की राजधानी पनामा सिटी में स्थित है। पनामा के पश्चिम में कोस्टा रिका, दक्षिण पूर्व में कोलंबिया, उत्तर में कैरिबियन सागर तथा दक्षिण में प्रशांत महासागर स्थित है। पनामा ने स्पेन से 28 नवम्बर, 1821 को स्वतंत्रता प्राप्त की थी। इसके बाद पनामा ग्रान कोलंबिया में दिसम्बर, 1821 में शामिल हुआ। बाद में 3 नवम्बर, 1903 को पनामा ने कोलंबिया गणराज्य से स्वतंत्रता प्राप्त की। पनामा का कुल क्षेत्रफल 74,417 वर्ग किलोमीटर है।

3. 58वें वेनिस बिएन्नाले 2019 में भारतीय पवेलियन

8 वर्ष पश्चात् भारत पुनः कला जगत के सबसे पुराने बिएन्नाले (द्विवार्षिक इवेंट) में इटली के वेनिस में हिस्सा लेगा। इस इवेंट का आरम्भ 11 मई, 2019 को होगा। 58वें वेनिस बिएन्नाले 2019 की थीम “आवर टाइम फॉर ए फ्यूचर केयरिंग” है।

मुख्य बिंदु

  • इस इवेंट में भारतीय पवेलियन में 16 हरिपुरा पोस्टर्स प्रदर्शित किये जायेंगे, भारतीय पवेलियन की थीम “महात्मा गाँधी के 150 वर्ष” होगी। ऐसा दूसरी बार होगा जब भारत विश्व के सबसे बड़े कला इवेंट में पवेलियन स्थापित करेगा।
  • भारतीय पवेलियन को किरण नादर म्यूजियम ऑफ़ आर्ट द्वारा तैयार किया गया है तथा इसे नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट के द्वारा कमीशन किया गया है।
  • 1938 में महात्मा गाँधी ने आधुनिक कलाकार नंदलाल बोस को गुजरात के हरिपुरा में कांग्रेस के अधिवेशन में भारतीय जीवन के विभिन्न पहुलओं को चित्रित करने के लिए कहा था।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – 58वें वेनिस बिएन्नाले 2019 की थीम क्या है?

उत्तर —“आवर टाइम फॉर ए फ्यूचर केयरिंग”

4. भारत 2019 G-7 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेगा

  • भारत को ऑस्ट्रेलिया, चिली और दक्षिण अफ्रीका के साथ G-7 देशों के शिखर सम्मेलन के लिए आधिकारिक रूप से आमंत्रित किया गया है।
  • इस शिखर सम्मेलन का आयोजन 24-25 अगस्त, 2019 के दौरान फ्रांस के बियारिट्ज में किया जायेगा। विश्लेषकों के अनुसार भारत को यह आमंत्रण भारत और फ्रांस के बीच मज़बूत संबंधों को दर्शाता है।
  • G-7 समूह में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, कनाडा, जापान और जर्मनी शामिल है। इससे पहले 2005 में भी भारत G-7 के शिखर सम्मेलन में शामिल हुआ था।

स्मरणीय तथ्य :-

— G-7 अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, कनाडा, जापान और जर्मनी का समूह है, यह IMF के अनुसार विश्व की सबसे एडवांस्ड अर्थव्यवस्थाएं हैं। यह वैश्विक नेट वर्थ के 58% हिस्से का प्रतिनिधित्व करते हैं। G-7 देश वैश्विक सकल घरेलु उत्पाद के 46% का प्रतिनिधित्व करते हैं।

5. दिलीप कुमार को लोकपाल कार्यालय में विशेष ड्यूटी अफसर (OSD) नियुक्त किया गया

  • 1995 बैच के पंजाब कैडर के आईएएस अफसर दिलीप कुमार को लोकपाल कार्यालय में विशेष ड्यूटी अफसर नियुक्त किया गया है। उन्हें अतिरिक्त प्रभार के आधार पर 6 महीने के लिए नियुक्त किया गया है।
  • यह संभवतः लोक पाल में प्रथम नौकरशाह की आधिकारिक नियुक्ति है। इससे पहले वे राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में संयुक्त सचिव थे। 23 मार्च, 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जस्टिस पिनाकी चन्द्र घोष को देश के प्रथम लोकपाल के रूप में शपथ दिलाई थी।
  • नियमों के अनुसार लोकपाल पैनल में एक चेयरपर्सन तथा आठ सदस्यों का प्रावधान है, इनमे से चार सदस्य न्यायिक होने चाहिए।

लोकपाल

  • जस्टिस पिनाकी चन्द्र घोष भारत के प्रथम लोकपाल हैं। लोकपाल में एक चेयरमैन तथा 8 सदस्यों का प्रावधान है। नियमों के अनुसार लोकपाल के आठ सदस्यों में से चार सदस्य न्यायिक होने चाहिए।
  • लोकपाल के चार न्यायिक सदस्य विभिन्न उच्च न्यायालयों के पूर्व मुख्य न्यायधीश हैं – जस्टिस दिलीप बी. भोसले, प्रदीप कुमार मोहंती, अभिलाषा कुमारी तथा अजय कुमार त्रिपाठी।
  • लोकपाल के चार गैर-न्यायिक सदस्य इस प्रकार हैं : अर्चना रामासुन्दरम (सशस्त्र सीमा बल की पहली महिला प्रमुख), दिनेश कुमार जैन (महाराष्ट्र के पूर्व मुख्य सचिव), महेंद्र कुमार (पूर्व IRS अफसर) तथा इन्द्रजीत प्रसाद गौतम (गुजरात कैडर के पूर्व आईएएस अफसर) ।
  • लोकपाल का अध्यक्ष बनने के लिए उम्मीदवार सर्वोच्च न्यायालय का मुख्य न्यायधीश, सर्वोच्च न्यायालय का न्यायधीश अथवा भ्रष्टाचार विरोधी नीति, लोक प्रशासन, वित्त, विधि अथवा प्रबंधन के क्षेत्र से कम से कम 25 वर्षों से जुड़ा हुआ व्यक्ति होना चाहिए।
  • लोकपाल का न्यायिक सदस्य बनने के लिए उम्मीदवार सर्वोच्च न्यायालय का न्यायधीश अथवा उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायधीश होना चाहिए।
  • लोक पाल के अन्य सदस्य कम से कम 25 वर्षों से भ्रष्टाचार विरोधी नीति, लोक प्रशासन, वित्त, विधि अथवा प्रबंधन के क्षेत्र से जुड़े हुए होने चाहिए।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न –हाल ही में किसे लोकपाल कार्यालय में विशेष ड्यूटी अफसर (OSD) नियुक्त किया गया है?

उत्तर — दिलीप कुमार को

6. उन्नत भारत अभियान के लिए ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड ने IIT कानपूर के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये

  • ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड ने हाल ही में “उन्नत भारत अभियान” के लिए IIT कानपूर के साथ समझौता किया है। “उन्नत भारत अभियान” केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की पहल है।
  • उन्नत भारत अभियान के लिए IIT कानपूर में उत्तर प्रदेश के 15 प्रमुख उच्च शिक्षण संस्थानों को एकत्रित किया है।
  • यह सभी संस्थान कॉमन सर्विस सेंटर के साथ मिलकर गाँव के विकास के लिए कार्य करेंगे। IIT कानपूर ने पांच गाँवों को गोद लिया है : हृदयपुर, बैकंथपुर, ईश्वरगंज, प्रतापपुर हरी तथा सक्सुपुर्वा। यह गाँव कानपूर के निकट स्थित है।

योजना के प्रमुख लक्ष्य

  • उच्च शिक्षण संस्थान के अध्यापकों व छात्रों द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के जानकारी प्राप्त करना।
  • ग्रामीण क्षेत्रों की समस्याओं के समाधान के लिए नवीन तकनीकों का उपयोग करना।
  • सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए उच्च शिक्षण संस्थानों द्वारा योगदान देना।
  • यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में विकास प्रक्रिया को तेज़ी देने तथा मूलभूत परिवर्तन लाने के उद्देश्य से प्रेरित है। इसके लिए देश के बड़े शिक्षण संस्थानों के ज्ञान व साधनों का उपयोग किया जायेगा।
  • इससे देश के सर्वांगीण विकास में गाँव भी भागीदार बन सकेंगे। इस योजना के तहत उच्च शिक्षण संस्थानों द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के जीवन स्तर, समस्याओं व आवश्यकताओं के बारे में अध्ययन किये जायेगा तथा समस्याओं के समाधान के लिए उपाय भी सुझाए जायेंगे।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड ने हाल ही में किस अभियान के लिए IIT कानपूर के साथ समझौता किया है

उत्तर —“उन्नत भारत अभियान”

— उन्नत भारत अभियान : इस अभियान का उद्देश्य एक उच्च शिक्षण संस्थान को कम से कम पांच गाँवों से जोड़ना है, जिससे गाँव में आर्थिक और सामाजिक परिवर्तन संभव हो सके। इस योजना के तहत यह उच्च शिक्षण संस्थान गाँवों में विकास गतिविधियों में हिस्सा लेते हैं।

7. 99942 अपोफिस क्षुद्रग्रह

नासा के अनुसार 99942 अपोफिस क्षुद्रग्रह अगले 10 वर्षों में पृथ्वी की ओर बढ़ेगा। हालांकि यह क्षुद्रग्रह पृथ्वी की सतह से लगभग 31,000 किलोमीटर ऊपर से होकर गुजरेगा।

मुख्य बिंदु

  • यह घटना काफी दुर्लभ होगी, 99942 काफी बड़ा ऑब्जेक्ट है। यह वैज्ञानिकों के लिए इस क्षुद्रग्रह के अध्ययन के लिए एक अच्छा अवसर है। वैज्ञानिक इस क्षुद्रग्रह के आकार तथा संघटन इत्यादि का अध्ययन कर सकेंगे।
  • नासा के मुताबिक पृथ्वी से लगभग 2 अरब लोग इस क्षुद्रग्रह को नंगी आँखों से देख सकेंगे। यह क्षुद्रग्रह ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी तट से पश्चिमी तट की ओर गुजरेगा।
  • यह हिन्द महासागर, भूमध्य रेखा, अफ्रीका तथा अटलांटिक महासागर के ऊपर से होकर गुजरेगा। अपोफिस की पृथ्वी से टकराने की सम्भावना बहुत कम है।

स्मरणीय तथ्य :-

प्रश्न – नासा की स्थापन कब हुई थी?

उत्तर —29 जुलाई, 1958

—99942 अपोफिस की खोज 2004 में अमेरिकी खगोलशास्त्रियों द्वारा की गयी थी। इसका नाम मिस्र के विनाश के भगवान् के नाम पर रखा गया है। इसका व्यास 370 मीटर है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *