School mapping | शाला मानचित्रण

अध्‍याय-4 : शाला मानचित्रण एवं सूक्ष्म नियोजन

→ स्‍कूल मानचित्रण की शुरूआत किस देश से हुई थी –

(A) अमेरिका

(B) रूस

(C) फ्रांस

(D) इंग्‍लैण्‍ड

उत्तर—(C)

तथ्‍य – स्‍कूल मानचित्रण की शुरूआत 1963 में फ्रांस से हुई थी।

→ भारत में शाला मानचित्रण की शुरूआत कब से हुई थी –

(A) 1990

(B) 1957

(C) 2000

(D) 1992

उत्तर—(D)

तथ्‍य –

भारत में शाला मानचित्रण की शुरूआत ‘लोक जुम्बिश परियोजना 1992’ से हुई।

लोक जुम्बिश परियोजना का विलय 2004 में सर्व शिक्षा अभियान (SSA) में कर दिया गया।

→ लोक जुम्बिश परियोजना किस देश के सहयोग से और कब प्रारम्‍भ हुई-

(A) स्‍वीडन 1993

(B) नार्वे 1992

(C) स्‍वीडन 1992

(D) नार्वे 1993

उत्तर—(C)

तथ्‍य –

लोक जुम्बिश परियोजना स्‍वीडन के सहयोग से जून, 1992 में प्रारम्‍भ की गई थी।

वर्ष 2004 में लोक जुम्बिश योजना को बंद करके इसका विलय सर्व शिक्षा अभियान में कर दिया गया।

→ शाला मानचित्रण का उद्देश्य नहीं है –

(A) शैक्षिक स्थित का आकलन करना

(B) जन सहभागिता प्राप्‍त करना

(C) लैगिंक असमानताओं को बढ़ना

(D) शैक्षिक नियोजन में सहयोग

उत्तर—(C)

तथ्‍य – शाला मानचित्रण के उद्देश्‍य –

लैंगिक असमानताओं को कम करना।

6 – 14 वर्ष तक के सभी बच्‍चों को विद्यालय स्‍तर की शिक्षा उपलब्‍ध करना।

बाल केन्द्रित शिक्षा

शिक्षा में गुणात्‍मक सुधार करना।

→ सूक्ष्म नियोजन का भाग नहीं है –

(A) नामांकन

(B) ठहराव

(C) गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा

(D) कोर टीम

उत्तर—(D)

तथ्‍य –

शाल मानचित्रण की गतिविधियों का संचालन एक कोर टीम द्वारा किया जाता है। इस टीम के सदस्‍य कम से कम 6 व अधिकतम 22 हो सकते हैं, जो शाला मानचित्रण के लिए नजरी नक्‍शा तैयार करते हैं।

शाला मानचित्रण द्वारा आकलन की गई शैक्षिक स्थिति को आधार बनाकर ठहरावयुक्‍त, नामांकन युक्‍त व गुणवत्तापूर्ण शिक्षण के लिए जनसहभागिता को ध्‍यान में रखकर बनाई गई योजना ही ‘सूक्ष्‍म नियोजन’ है।

→ किसी क्षेत्र विशेष की शैक्षिक सुविधाओं का आकलन कर उन्हें मानचित्र में दर्शाना कहलाता है –

(A) नजरी नक्‍शा

(B) शाला मानचित्रण

(C) ब्लू प्रिंट

(D) सभी

उत्तर—(B)

तथ्‍य – जिस क्षेत्र का शाला मानचित्रण किया जाता है, उस क्षेत्र की वर्तमान स्‍कूल की भौतिक व शैक्षिक स्थिति का सर्वेक्षण करना तथा विद्यालय में प्रवेश लेने वाले छात्रों की संख्‍या का पूर्वानुमान लगाना। शाला मानचित्रण के द्वारा ही यह पता चलता है कि विद्यालय कहां स्‍थापित होना चाहिए।

→ एक नजर में ही किसी गांव की शैक्षिक स्थिति ज्ञात करने में सहायक है –

(A) दिवारी नक्शा

(B) साला मानचित्र

(C) नजरी नक्शा

(D) तीनों तीनों

उत्तर—(C)

तथ्‍य – नजरी नक्‍शा, शाला मानचित्रण की ऐसी प्रस्‍तुति‍ जिसके द्वारा किसी गांव/प्रदेश की सारी शैक्षिक स्थिति एक नजर में ही मालूम हो जाती है।

→ नजरी नक्‍शा में उत्तर दिशा अंकित की जाती है –

(A) ऊपर की ओर बायीं तरफ

(B) ऊपर की ओर दायीं तरफ

(C) नीचे की बायीं तरफ

(D) नीचे की ओर दायीं तरफ

उत्तर—(B)

→ ‘नजरी नक्शा’ निर्माण में लाल रंग के ब्‍लॉक्‍स (केवल बाउंड्री लाल रंग) किसको प्रदर्शित करते हैं –

(A) लड़की स्‍कूल नहीं जाती है।

(B) लड़के स्‍कूल नहीं जाते।

(C) लड़की स्‍कूल जाती है।

(D) लड़के स्‍कूल जाते है।

उत्तर—(B)

→ शाला मानचित्रण का भाग निम्नलिखित में से नहीं है –

(A) ग्राम सर्वेक्षण

(B) नजरी नक्‍शा

(C) ब्‍लू प्रिंट

(D) ग्राम शिक्षा समिति

उत्तर—(C)

तथ्‍य – शाला मानचित्रण की गतिविधियों का संचालन करने के लिए एक कोर टीम भी होती है।

→ शाला मानचित्रण निर्माण का चरण नहीं है –

(A) केचमेन्‍ट एरिया का निर्धारण

(B) ग्राम शिक्षा समिति का गठन

(C) नजरी खाका तैयार करना

(D) ग्राम सर्वेक्षण नहीं करना

उत्तर—(D)

तथ्‍य – शाला मानचित्रण निर्माण के कार्यों के चरण –

ग्राम शिक्षा समिति का गठन→ ग्राम शिक्षा समिति के सदस्‍यों का अभिमुखीकरण→ केचमेन्‍ट एरिया का निर्धारण→ नजरी खाका तैयार करना → सदस्‍यों के उत्तरदायित्‍व निर्धारित करना→ ग्राम सर्वेक्षण करना→ नजरी खाके को नजरी नक्‍शे में परिवर्तित करना→ क्षेत्र के नजरी नक्‍शे को पक्‍के रूप में तैयार करना→ सूची (गोश्‍वारा) तैयार करना → शैक्षिक स्थिति का आकलन करना।

→ शाला मानचित्रण के नजरी नक्शे में (×) चिह्न किसे व्यक्त करता है-

(A) प्राथमिक विद्यालय

(B) खतरे के निशान को

(C) उच्च प्राथमिक विद्यालय

(D) आगे रास्ता बंद है

उत्तर—(C)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *