राजस्थान की प्रमुख हवेलियाँ

राजस्थान की प्रमुख हवेलियाँ

पटवों की हवेली- जैसलमेर

  • 5 मंजिली इस हवेली में सिन्ध, भारत, मुगल व यहूदी स्थापत्य कला का अद्भूत संगम मिलता हैं। यह हवेली पत्थरों की जाली व कटाई के लिए विश्व प्रसिद्ध हैं।

नथमल की हवेली –

  • जैसलमेर इस हवेली का निर्माण 1881 से 1885 ई. के बीच लालू व हाथी नामक 2 भाईयों ने करवाया था।
  • इस हवेली के दरवाजे पर पीले पत्थरों के हाथी इन्द्र के ऐरावत के समान सुषोभित हैं।

सालिम सिंह की हवेली-

  • जैसलमेर यह 9 मंजिला हवेली हैं, इस हवेली को कमल महल व रूप महल के नाम से भी जाना जाता हैं।
  • इसकी 8 वीं व 9 वीं मंजिलें लकड़ी से बनी हुई हैं।

बागौर की हवेली –

  • पिछोला झील के किनारे (उदयपुर) इसका निर्माण अमरचन्द बड़वा ने करवाया तथा इस हवेली के निकट 1986 में पश्चिमी क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र स्थापित किया गया था।
  • इस हवेली में विश्व की सबसे बड़ी पगड़ी रखी हुई हैं।

पुष्य हवेली –

  • जोधपुर यह विश्व की एकमात्र ऐसी हवेली है जिसका निर्माण पुष्य नक्षत्र में हुआ हैं।

विशेष – बीकानेर की हवेलियां लाल पत्थरों से निर्मित हैं बीकानेर में निम्न हवेलियां हैं- रामपुरिया हवेली, बच्छावतों की हवेली।

जोधपुर में स्थित हवेलियां-

  • बड़े मिंया की हवेली, पाल हवेली, राखी हवेली, पोकरण हवेली, पच्चिसां हवेली, आसोप हवेली, सांगीदास थानवी की हवेली (फलौदी), लालचन्द ढ़ड्डा की हवेली (फलौदी), मोती लाल अमरचन्द कोचर हवेली (फलौदी), फूलचन्द गोलछा हवेली (फलौदी) आदि।

जैसलमेर की अन्य प्रमुख हवेलियां-

  • राव राजा बर्सलपुर की हवेली, सोढ़ों की हवेली, दीवान आचार्य ईसरलाल जी हवेली।

कोटा की हवेलियां-

  • झाला हवेली, बड़े देवताओं की हवेली।

चितौड़गढ़ की हवेलियां-

  • भामाशाह हवेली, सलूम्बर ठिकाने की हवेली, रामपुरा ठिकाने की हवेली, जयमल व फता की हवेलियां।

उदयपुर की हवेलियां-

  • बागौर की हवेली, पीपलिया की हवेली, बाफना की हवेली, मोहनसिंह की हवेली।

शेखावाटी क्षेत्र की हवेलियां भिति चित्रों के लिए प्रसिद्ध हैं-

झुंझुनू में स्थित हवेलियां-

  • ईश्वर दास मोदी की हवेली (यह हवेली सौ से अधिक खिड़कियों के लिए प्रसिद्ध हैं), खींचन की हवेली, टीबड़वाले की हवेली (नवलगढ), पौद्दारों की हवेली (नवलगढ़), भक्तों की हवेली (नवलगढ़ की हवेलियों में सबसे बड़ी) सेठ जयदयाल केडिया की हवेली (बिसाउ), सीताराम सिगतिया की हवेली (बिसाउ), सेठ हीराराम बनारसी लाल की हवेली (बिसाउ), सोना चांदी की हवेली (महनसर), बिड़ला की हवेली (पिलानी), सागरमल लाड़िया की हवेली (मण्डावा), रामदेव चैखाणी की हवेली (मण्डावा), रामनाथ गोयनका की हवेली (मण्डावा),

सीकर में स्थित हवेलियां-

  • बिनाणियों की हवेली (लक्ष्मण गढ़- 200 वर्ष पुरानी हवेली हैं), नई हवेली (लक्ष्मण गढ़), राठी हवेली (लक्ष्मण गढ़), रोनेड़ी वालों के चैक की हवेली (लक्ष्मण गढ़), बैजनाथ रूड्या की हवेली (रामगढ़), खेमका व गोयनका सेठों की हवेली (रामगढ़), पंसारी की हवेली (श्रीमाधोपुर)।

चुरू में स्थित हवेलियां-

  • रामविलास गोयनका की हवेली, सुराणों की हवामहल हवेली, मन्त्रियों की मोटी हवेली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *