वाच्‍य (Hindi Voice)

हिन्‍दी : वाच्‍य

Hindi Voice (Vachya)

“क्रिया के उस परिवर्तन को वाच्य कहते हैं”, जिसके द्वारा इस बात का बोध होता है कि वाक्य के अन्तर्गत कर्ता, कर्म या भाव में से किसकी प्रधानता है। इनमें किस के अनुसार क्रिया के पुरुष, वचन आदि आए हैं।

वाच्य के तीन प्रकार हैं-

1. कर्तृवाच्य

2. कर्मवाच्य

3. भाववाच्य

(1) कर्तृवाच्य – क्रिया के उस रूपान्तर को कर्तृवाच्य कहते हैं, जिससे वाक्य में कर्ता की प्रधानता का बोध हो। यह वाच्‍य सकर्मक और अकर्मक दोनों से बनता है।

जैसे-

  • राम पुस्तक पढ़ता है।
  • मैंने पुस्तक पढ़ी।

(2) कर्मवाच्य – क्रिया के उस रूपान्तर को कर्मवाच्य कहते हैं, जिससे वाक्य में कर्म की प्रधानता का बोध हो। यह वाच्‍य सकर्मक क्रिया से बनता है।

जैसे-

  • पुस्तक पढ़ी जाती है।
  • आम खाया जाता है।

यहाँ क्रियाएँ कर्ता के अनुसार रूपान्तररित न होकर कर्म के अनुसार परिवर्तित हुई हैं।

(3) भाववाच्य – क्रिया के उस रूपान्तर को भाववाच्य कहते हैं, जिससे वाक्य में क्रिया अथवा भाव की प्रधानता का बोध हो । क्रिया के लिंग वचन कर्म के लिंग एवं वचन के अनुसार होते है। यह वाच्‍य अकर्मक क्रिया से बनता है।

जैसे-

  • मोहन से टहला भी नहीं जाता।
  • मुझसे उठा नहीं जाता।
  • धूप में चला नहीं जाता।

वाच्य के प्रयोग –

वाक्य में क्रिया के लिंग, वचन तथा पुरुष का अध्ययन ‘प्रयोग’ कहलाता है। ऐसा देखा जाता है कि वाक्य की क्रिया का लिंग, वचन एवं पुरुष कभी कर्ता के लिंग, वचन और पुरुष के अनुसार होता है, तो कभी कर्म के लिंग-वचन-पुरुष के अनुसार, लेकिन कभी-कभी वाक्य की क्रिया कर्ता तथा कर्म के अनुसार न होकर एकवचन, पुंलिंग तथा अन्यपुरुष होती है; ये ही प्रयोग है।

(क) कर्तरि प्रयोग- जब वाक्य की क्रिया के लिंग, वचन और पुरुष कर्ता के लिंग, वचन और पुरुष के अनुसार हों तब कर्तरि प्रयोग होता है;

जैसे- मोहन अच्छी पुस्तकें पढता है।

(ख) कर्मणि प्रयोग- जब वाक्य की क्रिया के लिंग, वचन और पुरुष कर्म के लिंग, वचन और पुरुष के अनुसार हों तब कर्मणि प्रयोग होता है;

जैसे- सीता ने पत्र लिखा।

(ग) भावे प्रयोग- जब वाक्य की क्रिया के लिंग, वचन और पुरुष कर्ता अथवा कर्म के लिंग, वचन और पुरुष के अनुसार न होकर एकवचन, पुंलिंग तथा अन्य पुरुष हों तब भावे प्रयोग होता है;

जैसे- मुझसे चला नहीं जाता। सीता से रोया नहीं जाता।

***

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *