वाक्‍यांश के लिए एक सार्थक शब्‍द

वाक्‍यांश के लिए एक सार्थक शब्‍द

Hindi One Word Substitution

वाक्‍यांश—सार्थक शब्‍द

जिसकी कल्‍पना न की जा सके—अकल्‍पनीय

जो खाया न जा सके —अखाद्य

जो सबसे आगे रहता हो—अग्रणी

जो इंद्रियों से परे हो—इन्द्रियातीत/अगोचर

जो कुछ भी नहीं जानता हो—अज्ञ

जो बहुत थोड़ा जानता हो—अल्‍पज्ञ

जो विधान के विपरीत हो —अवैधानिक

जो संविधान के प्रतिकूल हो—असंवैधानिक

जो साधा (ठीक किया) न जा सके—असाध्‍य

जो शोक करने योग्‍य नहीं है—अशोक्‍य

जो स्‍त्री सूर्य को भी न देख सके—सूर्यम्‍पश्‍या

जो पहले कभी न हुआ हो—अभूतपूर्व

जो बीत चुका है—अतीत

जो पहले कभी नहीं सुना गया—अश्रुतपूर्व

जो बूढ़ा न हो—अजर

जो अपनी बात से न टले—अटल

जो अपनी जगह से न डिगे—अडिग

ऐसे स्‍थान पर निवास करना जो किसी को ज्ञान न हो—अज्ञातवास

जो दो जातियों के बीच में हो—अंतर्जातीय

जो क्षय न हो सके—अक्षय

जो मनुष्‍य के लिए उचित न हो—अमानुषिक

किसी के दु:ख से दुखी होकर उस पर दया करना—अनुकम्‍पा

किसी को भय से बचाने का वचन देना—अभयदान

आम का बगीचा—अमराई

कुबेर की नगरी—अलकापुरी

कम वर्षा का होना—अल्‍पवृष्टि

बिल्‍कुल भी वर्षा का न होना—अनावृष्टि

परस्‍पर एकदूसरे पर आश्रित—अन्‍योन्‍याश्रित

जो दबाया न जा सके—अदम्‍य

जो खाली न जाए—अचूक

आत्‍मा व परमात्‍मा का द्वैत न मानने वाला—अद्वैतवादी

हाथी को हाँकने का लोहे का हुक—अंकुश

आवश्‍यकता से अधिक वर्षा—अतिवृष्टि

किसी बात को बढ़ाचढ़ाकर कहना—अतिशयोक्ति

इंद्रियों की पहुँच से बाहर—अतीन्द्रिय

जिसकी तुलना न की जा सके—अतुलनीय

देहरी पर रंगों से बनाई गई चित्रकारी—अल्‍पना/रंगोली

जिसका परिहार करना संभव न हो—अपरिहार्य

जिसे प्राप्‍त न किया जा सके—अप्राप्‍य

जो अश्‍व पर आरोही (सवार) हो—अश्‍वारोही

नीचे की ओर मुख किए हुए —अधोमुख

जिसकी उपमा न की जा सके—अनुपम

जिसका अनुभव किया गया हो—अनुभूत

जिसके बिना कार्य न च सके—अपरिहार्य

बिना वेतन के कार्य करने वाला—अवैतनिक

महल का भीतरी भाग—अन्‍त:पुर

जिसकी सीमा न हो—असीम

धरती और आकाश के बीच का स्‍थान—अंतरिक्ष

गुरु के साथ या समीप रहने वाला छात्र—अंतेवासी

जिसके पास कुछ भी न हो—अकिंचन

जिसमें काँटे या विघ्‍नबाधा न हो—अंकटक

तर्क के बिना मान लिया गया विश्‍वास—अंधविश्‍वास

जिसके अंदर या पास न पहुँचा जा सके—अगम्‍य

जो सबके मन की बात जानता हो—अंतर्यामी

उचित से कम मूल्‍य लगाना—अवमूल्‍यन

जो गाये जाने योग्‍य न हो—अगेय

जो चिंतन करने योग्‍य न हो—अचिन्‍त्‍य

जिसे जीता न जा सके—अछेद्य

जिसके समान कोई दूसरा न हो—अद्वितीय

कनिष्‍ठा और मध्‍यमा के बीच की उँगली—अनामिका

जो किसी वस्‍तु या विषय में आसक्‍त न हो—अनासक्‍त

जिसे बुलाया न गया हो—अनाहूत

जिसका जन्‍म पीछे हुआ हो—अनुज

आवश्‍यकता से अधिक धन का ग्रहण न करना—अपरिग्रह

जो मापा न जा सके—अपरिमेय

सामान्‍य या व्‍यापक नियम के विरुद्ध बात—अपवाद

आवश्‍यकता या उचित मात्रा से अधिक खर्च करने वाला—अपव्‍ययी

जिसकी पहले से कोई आशा न हो—अप्रत्‍याशित

जो विधि या कानून के विरुद्ध हो—अवैध

ईश्‍वर में विश्‍वास रखने वाला—आस्तिक

ऋषि की कही गई बात या कथन—आर्ष

जो तुरन्‍त कविता बना सके—आशुकवि

जिस पर आक्रमण हो—आक्रांत

आभार मानने वाला—आभारी

जो आदर करने योग्‍य हो—आदरणीय

जिसे आश्‍वासन दिया गया हो—आश्‍वस्‍त

अग्नि से संबंधित या आग का—आग्‍नेय

अतिथि की सेवा करने वाला—आतिथेय

जो अपनी हत्‍या कर लेता है—आत्‍मघाती

श्रद्धा से जल पीना—आचमन

भारतवर्ष का उत्तरीभाग—आर्यावर्त

जो बहुत क्रूर स्‍वभाव वाला हो—आततायी

जो मृत्‍यु के समीप हो—आसन्‍नमृत्‍यु / मरणासन्‍न

दूसरो के (सूख के) लिए अपने सुखों का त्‍याग—आत्‍मोत्‍सर्ग

आदि से लेकर अंत तक—आद्योपान्‍त

इन्द्रियों को वश में करने वाला—इन्द्रियजीत

इतिहास को जानने वाला—इतिहासज्ञ

किन्‍हीं घटनाओं का कालक्रम से किया गया वृत्त—इतिवृत्त

जिसकी ईप्‍सा या इच्‍छा की गई हो—ईप्सित

बीज से जन्‍म लेने वाला—उद्भिज

जिसकी उपमान दी जाए—उपमेय

जिससे उपमा दी जाए—उपमान

वह हँसी जिसमें अपमान का भाव हो—उपहास

जो भूमि उपजाऊ हो—उर्वरा

पर्वत के नीचे की समतल भूमि—उपत्‍यका

सूर्योदय से पहले का समय—उषाकाल

जिस भूमि में कुछ भी उत्‍पन्‍न न होता हो—ऊसर

इन्‍द्र का हाथी—ऐरावत

इंद्रियों से संबंधित—ऐंद्रिय

इतिहास से संबंधित—ऐतिहासिक

जो उपनिषदों से संबंधित हो—औपनिषदिक

अपनी विवाहिता पत्‍नी से उत्‍पन्‍न (पुत्र)—औरस

उपकार को मानने वाला—कृतज्ञ

उपकार को न मानने वाला—कृतघ्‍न

हाथी का बच्‍चा—कलभ

जो कर्तव्‍य से च्‍युत हो गया है—कर्तव्‍यच्‍युत

जो कला जानता हो—कलाविद्

जिस नारी की बोली कठोर हो—कर्कशा

जो पुरुषत्‍वहीन हो—क्‍लीव

जिसका प्रयोजन सिद्ध हो चुका हो—कृतार्थ

अँधेरी रातों वाला पखवाड़ा—कृष्‍ण पक्ष

जिसकी उत्‍पत्ति स्‍वभावगत न हो—कृत्रिम

तांत्रिक जो अपने हाथ में कपाल (खोपड़ी) लिए रहते हैं—कापालिक

बहुत काम करते रहने वाला—कर्मठ

फूल जो अभी खिला न हो—कली

अपने ही कुल का नाश करने वाला व्‍यक्ति—कुलांगार

जहाँ धरती और आकाश मिले हुए दिखाई दें—क्षितिज

आकाशीय पिण्‍डों का विवेचन करने वाला—खगोलशास्‍त्री

खाने योग्‍य अन्‍न—खाद्यान्‍न

ऐसा जो अंदर से खाली हो—खोखला

जो छिपाने योग्‍य हो—गोपनीय

जो अशिष्‍ट व्‍यवहार करता हो—गंवार

गंगा का पुत्र—गांगेय

गृह (घर) बसाकर रहने वाला—गृहस्‍थ

गुप्‍त रूप से घूमकर सूचना देने वाला—गुप्‍तचर

घृणा किये जाने योग्‍य—घृण्‍य

गद्य और पद्य की सम्मिलित रचना—चम्‍पू

जो देर तक स्‍मरण के योग्‍य हो—चिरस्‍मरणीय

चार वेदों को जानने वाला—चतुर्वेदी

जो चर्चा का विषय हो—चर्चित

जो अपने स्‍थान से डिग गया हो—च्‍युत

जिसके हाथ में चक्र है—चक्रपाणि

जानने की इच्‍छा—जिज्ञासा

जाने का इच्‍छुक—जिज्ञासु

जीवित रहने की इच्‍छा—जिजीविषा

पेट में लगने वाली आग—जठराग्नि

जीतने की इच्‍छा रखने वाला—जिगीषु

जो गर्भ की थैली से जन्‍म लेता है—जरायुज

जो यान जल में चलता है—जलयान

जो जन्‍म से ही अंधा है—जन्‍मान्‍ध

जनता द्वारा संचालित शासन—जनतंत्र

जिसे ज्ञान प्राप्‍त करने की प्‍यास हो—ज्ञानपिपासु

वर्षा सहित तेज हवा—झंझावत

चारों ओर जल से घिरा हुआ भू भाग—टापू

किसी ग्रंथ या रचना की टीका करने वाला—टीकाकार

जो त्‍यागने योग्‍य हो—त्‍याज्‍य

किसी पद अथवा सेवा से मुक्ति का पत्र—त्‍यागपत्र

किसी भी पक्ष का समर्थन न करने वाला—तटस्‍थ

वह जो बराबर तपस्‍या करता है—तपस्‍वी

जंगल में लगने वाली आग—दावाग्नि / दावानल

दूर की बात सोचने वाला—दूरदर्शी

गोद लिया हुआ पुत्र—दत्तक

जहाँ जाना कठिन हो—दुर्गम

दो बार जन्‍म लेने वाला—द्विज

वह व्‍यक्ति जो क्रेता और विक्रेता के बीच सौदा पक्‍का कराता है—दलाल

जो कठिनाई से मिला है—दुर्लभ

जिसे करना बहुत कठिन हो—दुष्‍कर

अपने देश के साथ विश्‍वासघात करने वाला—देशद्रोही

जो एक अक्षर भी न जानता हो—निरक्षर

जो निंदा के योग्‍य हो—निन्‍दनीय

जो कामना रहित हो/जिसे फल की इच्‍छा न हो—निष्‍काम

जो ईश्‍वर में विश्‍वास नहीं करता—नास्तिक

जो नीति के अनुकूल हो—नैतिक

माँस रहित भोजन—निरामिष

जिस स्‍त्री का विवाह अभी हुआ हो—नवोढ़ा

रंगमंच पर पर्दे के पीछे का स्‍थान—नेपथ्‍य

इतिहास से पहले का—प्रागैतिहासिक

रात्रि का प्रथम प्रहर—प्रदोष

अपने पद से हटाया हुआ—पदच्‍युत

जो दूसरे के अधीन हो—पराधीन

वह शासन प्रणाली जिसमें जनसाधारण का शासन हो—प्रजातंत्र

पश्चिम दिशा—प्रतीची

प्राचीन इतिहास का ज्ञाता—पुरातत्‍ववेत्ता

परपुरुष से प्रेम करने वाली स्‍त्री—परकीया

किसी स्‍त्री को पत्‍नी रूप में ग्रहण करने के साथ उसका हाथ पकड़ना—पाणिग्रहण

जिसमें इस पार से उस पार की वस्‍तुएँ दिखायी देती हों—पारदर्शक

शिव का धनुष—पिनाक

जो पिता की हत्‍या करे—पितृहंता

जो केवल फल खाकर जीवन निर्वाह करता हो—फलाहारी

जो बहुत कुछ जानता हो—बहुज्ञ

जिसने बहुत कुछ देखा हो—बहुदर्शी

बहुत-सी भाषाओं को जानने वाला—बहुभाषाविद्

जिसकी जीविका बुद्धि के बल पर चलती हो—बुद्धिजीवी

औषधियों का जानकार—भेषज

इन्‍द्र का सारथी—मातलि

मित (कम) बोलने वाला—मितभाषी

भेड़ का बच्‍चा—मेमना

सुख और दु:ख में समान रहने वाला—मनस्‍वी

जहाँ केवल रेत ही रेत हो—मरुस्‍थल

कम या नपातुला भोजन करने वाला—मिताहारी

मोक्ष प्राप्‍त करने की इच्‍छा—मुमुक्षा

मर जाने की कामना—मुमूर्षा

युद्ध की इच्‍छा रखने वाला—युयुत्‍सु

शक्ति के अनुसार —यथाशक्ति

यश देने वाली—यशोदा

लोक से संबंधित—लौकिक

जिसके विषय में विवाद हो—विवादास्‍पद

***

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *