हिन्‍दी : शब्‍द शुद्धि

हिन्‍दी : शब्‍द-शुद्धि

(Word Correction in Hindi)

अशुद्ध शब्‍द —शुद्ध शब्‍द

अभ्‍यस्‍थ —अभ्‍यस्‍त

अंत्‍येष्ठि —अंत्‍येष्टि

अक्षोहिणी —अक्षौहिणी

अष्‍टवक्र —अष्‍टावक्र

अत्‍योक्ति —अत्‍युक्ति

अंताक्षरी —अंत्‍याक्षरी

अध्‍यन —अध्‍ययन

अहोरात्रि —अहोरात्र

अंतकरण —अंत:करण

अपरान्‍ह —अपराह्न

अंतर्ध्‍यान —अंतर्धान

अंतर्रात्‍मा —अंतरात्‍मा

अलोकिक —अलौकिक

अनुगृह —अनुग्रह

अवन्‍नति —अवनति

आशिर्वाद —आशीर्वाद

एतिहासिक —ऐतिहासिक

इंदू —इंदु

उज्‍जवल —उज्‍ज्‍वल

अधगति —अधो‍गति

अल्‍हाद —आह्लाद

अमावश्‍या —अमावस्‍या

आंसू —आँसू

ईमारत —इमारत

उपरोक्‍त —उपर्युक्‍त

उलंघन —उल्‍लंघन

उष्‍मा —ऊष्‍मा

इस्‍त्री —स्‍त्री

उहापोह —ऊहापोह

एरावत —ऐरावत

कंकन —कंकण

कविंद्र —कवींद्र

कीर्ती —कीर्ति

उर्मि —ऊर्मि

एश्‍वर्य —ऐश्‍वर्य

एहिक —ऐहिक

ओद्योगिक —औद्योगिक

श्रृंगार —शृंगार

कुमुदनी —कुमुदिनी

कवियत्री —कवयित्री

कोंतेय —कौंतेय

गर्भिणी —गर्भिनी

चिन्‍ह —चिह्न

जेष्‍ट —ज्‍येष्‍ठ

तपश्‍या —तपस्‍या

देहिक —दैहिक

धातव्‍य —ध्‍यातव्‍य

केकयी —कैकेयी

गीध —गिद्ध

जागृत —जाग्रत

ज्‍योतसना —ज्‍योत्‍स्‍ना

तस्‍तरी —तश्‍तरी

द्वन्‍द —द्वन्‍द्व

तिरष्‍कार —तिरस्‍कार

नर्क —नरक

परीश्रम —परिश्रम

परिवेक्षण —पर्यवेक्षण

परिक्षा —परीक्षा

प्रतिलिपी —प्रतिलिपि

प्रतिक्षा —प्रतीक्षा

ब्रहस्‍पति —बृहस्‍पति

नेपथ —नेपथ्‍य

परिषद —परिषद्

नेत्रत्‍व —नेतृत्‍व

पारलोकिक —पारलौकिक

प्रज्‍ज्‍वलित —प्रज्‍वलित

पुनारावलोकन —पुनरवलोकन

भोगोलिक —भौगोलिक

भगत —भक्‍त

यथेष्‍ठ —यथेष्‍ट

युध —युद्ध

युधष्‍ठर —युधिष्ठिर

रितु —ऋतु

विधार्थी —विद्यार्थी

श्रृंखला —शृंखला

मध्‍यान्‍ह —मध्‍याह्न

यद्यपी —यद्यपि

याज्ञावल्‍क —याज्ञवल्‍क्‍य

रचियता —रचयिता

लोकिक —लौकिक

श्रीमति —श्रीमती

विशाद —विषाद

श्रृंग —शृंग

स्‍वसुर —श्‍वसुर

शांतमय —शांतिमय

संपति —संपत्ति

सत्‍यव्रती —सत्‍यव्रत

शर्बत —शरबत

सतगुण —सद्गुण

शारिरिक —शारीरिक

श्रगाल —शृगाल

सप्‍ताहिक —साप्‍ताहिक

सहस्‍त्र —सहस्र

षट्मुख —षण्‍मुख

श्रोत —स्रोत

समीति —समिति

सन्‍यासी —संन्‍यासी

संसोधन —संशोधन

सौहार्द्र —सौहार्द

सुक्ष्‍म —सूक्ष्‍म

हिरन —हरिण/हिरण

त्रिमासिक —त्रैमासिक

निरोग —नीरोग

संक्षिप्तिकरण —संक्षिप्‍तीकरण

सन्‍मुख —सम्‍मुख

सेनिक —सैनिक

ह्रदय —हृदय

क्षुदा —क्षुधा

दुरावस्‍था —दुरवस्‍था

किम्‍वदन्‍ती —किंवदन्‍ती

निर्दोषी —निर्दोष

आयुष्‍मान —आयुष्‍मान्

बुद्धिवान —बुद्धिमान्

श्रीमान —श्रीमान्

तत्‍व —तत्त्व

प्रमाणिक —प्रामाणिक

हरितिमा —हरीतिमा

निष्‍ठावान —निष्‍ठावान्

जगत —जगत, जगत् 

नोट – जगत के दोनों रूप शुद्ध होते है :

जगत (स्त्रीलिंग) – कुएँ के ऊपर चारों तरफ़ बना हुआ चबूतरा।

जगत् (पुल्लिंग) –

1. दुनिया, विश्व, संसार, (जैसे—जगत् के जंजाल से छूटना)।
2. विशिष्ट प्रकार का कार्य क्षेत्र (जैसे—हिंदी जगत्, सौर जगत्)।
3. पृथ्वी के निवासी (जैसे—जगत् तो हँसी उड़ाने पर तुला है)।

साक्षात —साक्षात्

उपनिवेशिक —औपनिवेशिक

दारिद्रता —दरिद्रय

तत्‍कालिक —तात्‍कालिक

संसारिक —सांसारिक

***

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *